काम अधूरा- पैसा पूरा, ग्राम प्रधान व ठेकेदार ने की जमकर बंदर बाट

काम अधूरा- पैसा पूरा, ग्राम प्रधान व ठेकेदार ने की जमकर बंदर बाट

वाराणसी(रणभेरी): सेवापुरी ब्लाक स्थित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए सांसद आदर्श गांव परमपुर में शौचालय घोटाला सामने आ रहा है। जहां लाभार्थी के शौचालय को ठेकेदार से बनवाया गया है। शौचालय के काम वैसे तो ठेकेदार की तरफ से पूर्ण कर दिए गए है जबकि वर्तमान समय में किसी शौचालय की छत गायब है, तो किसी के दरवाजे ही नहीं है। वहीं किसी का पाइप सीवर का टंकी से नहीं मिलाया गया।  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार आदर्श ग्राम के तहत आराजीलाइन ब्लॉक स्थित परमपुर गाँव का चयन किया गया है। आदर्श ग्राम की संकल्पना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी, जिसके तहत 5 गांव को गोद लिया जाना था और उसका विकास करना था। प्रधानमंत्री के गोद लिए नए गांव परमपुर में शौचालय के घोटाले की बात सामने आरही आ रही है।

गांव की महिला शकुंतला देवी ने बताया कि प्रधानमंत्री शौचालय योजना के तहत शौचालय मिला था जिसमें ठेकेदार द्वारा शौचालय बनाया गया है। शौचालय का पानी निकासी के सीवर के टंकी से नहीं मिलाया गया। जिससे शौचालय अधूरा पड़ा हुआ है। किसी शौचालय के सीलिंग नहीं बनी है तो किसी के दरवाजे टूटे हुए हैं। ठेकेदार आधा काम कर छोड़ कर भाग गया है।

शकुंतला देवी ने बताया कि शौचालय के लिए हम लोगों को पैसा नहीं मिला था, शौचालय बनाने का काम ठेकेदार द्वारा पूर्ण बताया गया है जो मौके पर पूरा नहीं किया गया है। स्थानीय नागरिक ने बताया कि शौचालय बनाने का काम ठेकेदार द्वारा किया गया है. प्रधान के बारे में बताते हुए बताया कि वह जेल में थे दूसरा प्रधान उसके बाद बना गया था, वह काम करवा रहे थे जिसके बावजूद भी काम पूरा नहीं हुआ। हम लोग उनसे कई बार बात किए हैं पर वह बनवाने का काम नहीं कर रहे हैं। वह लोग विपक्षी पार्टी हैं, शौचालय बना कर फोटो खींच कर चले गए हैं। बन जाएगा बन जाएगा पर अभी तक नहीं बना है, सभी ग्रामीणों द्वारा फोन करने पर भी प्रधान द्वारा जिम्मेदारी नहीं लेने की बात करते हैं। 

बीडीसी दीपक ने बताया कि शौचालय के हाल खस्ताहाल है किसी के सर पर छत नहीं है तो किसी के दरवाजे नहीं है, पूरे मामले में बडीसी ने बताया कि इसके विषय में प्रधान एवं उससे बड़े अधिकारी ही पूरे मामले के विषय में बता सकते हैं। दीपक ने आगे बताया कि जिस ठेकेदार को ठेका दिया था वह आधा काम कर चला गया, फिर उसको दूसरा व्यक्ति पूरा कराने के लिए आ रहे हैं। उनको सही तरीका से ईटा बालू तक नहीं मिल रहा है। शौचालय के विषय में बताते हुए कहा कि इस योजना के लाभार्थी को किसी के खाते में पैसा नहीं मिला है यह काम प्रधान एवं सेकेट्री के द्वारा किया जा रहा है।