एक दिवसीय ओरिएन्टेशन एण्ड सेन्सिटिज़ेशन प्रोग्राम का हुआ आयोजन

एक दिवसीय ओरिएन्टेशन एण्ड सेन्सिटिज़ेशन प्रोग्राम का हुआ आयोजन

वाराणसी (रणभेरी): भारतीय शिक्षा मण्डल काशी प्रांत एडिसिल इण्डिया एवं नेशनल कमीशन फार प्रोटेक्शन आफ चाइल्ड राइट्स (एनसीपीसीआर) के सहयोग से एक दिवसीय ओरिएन्टेशन एण्ड सेन्सिटिज़ेशन प्रोग्राम आन एक्जामीनेशन स्ट्रेस पर वाराणसी पब्लिक स्कुल लोहता में सम्पन्न हुआ। इस आनन्दशाला में 70 सरकारी विद्यालयों के प्रधानाचार्य एवं शिक्षक तथा 30 प्राइवेट विद्यालयों के शिक्षक एवं प्रधानाचार्य उपस्थित रहे। ये सभी शिक्षक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के निर्देशानुसार उपस्थित थे, जो कि इस कार्यक्रम को आयोजन में सहयोगी रहे। इस अवसर पर संत अतुलानन्द विद्यालय के प्रबन्धक राहुल सिंह मुख्य अतिथि रहे,

कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राकेश सिंह ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राहुल सिंह ने कहा कि सरकारी विद्यालयों एवं प्राइवेट विद्यालयों में अब समय आ गया है कि समानता दिखनी शुरू हो जाएगी, उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालय गुणवत्ता में प्राइवेट विद्यालयों से कहीं अच्छे होते हैं। सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने तनाव मुक्त परीक्षा पर अपनी बात रखी। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के डाॅ0 अनिल कुमार सिंह अपने उद्बोधन में कहा कि जब विद्यार्थी को हम प्रतिस्पर्धी बनायेंगे तो वह तनाव लेगा वहीं अगर उसे स्वयं से स्पर्धा करना सिखाएंगे तो वह तनाव मुक्त होगा। 

विद्यार्थी परीक्षा में असफल हो गया इसका मतलब यह नहीं कि जीवन में असफल हुआ इस लिए कभी भी परीक्षा में आए अंकों के आधार पर विद्यार्थी के ज्ञान की तुलना नहीं करनी चाहिए। अच्छे अंक के बजाय, अच्छे ज्ञान अर्जित करने पर शिक्षकों को बल देना चाहिए। कार्यक्रम में भारतीय शिक्षण मण्डल के राष्ट्रीय संगठन मंत्री मुकुल कानीटकर का 15 मिनट का वीडियों चलाया जिसको सभी प्रतिभागियों ने खुब सराहा। इस अवसर पर भारतीय शिक्षण मण्डल के शालेय प्रकल्प प्रमुख सचिन कुमार सिंह कोष प्रमुख, आशीष श्रीवास्तव, अजित कुमार, विद्यार्थी विस्तारक, वाराणसी पब्लिक स्कूल के प्रबन्धक अमित कुमार पाण्डेय, विद्यालय के प्रधानाचार्य, दिलिप पाण्डेय आदि मौजूद रहें, धन्यवाद ज्ञापन नरेश तवर ने किया।