मुख्य राजस्व अधिकारी के सरकारी बंगले को खाली कराने के लिए हुई मुनादी

 मुख्य राजस्व अधिकारी के सरकारी बंगले को खाली कराने के लिए हुई मुनादी

वाराणसी (रणभेरी): वाराणसी में मुख्य राजस्व अधिकारी रहे अधिकारी के सरकारी आवास की मुनादी की गई। आमतौर पर मुनादी किसी अपराधी या बदमाश की संपत्ति की कुर्की के वक्त की जाती है, लेकिन यह मुनादी वाराणसी के मुख्य राजस्व अधिकारी रहे और वर्तमान में चंदौली के एडीएम न्यायिक पद पर तैनात अनिल कुमार त्रिपाठी के उस सरकारी आवास को खाली कराने के लिए वाराणसी प्रशासन ने कराई जो लगभग पिछले 5 माह से वह खाली नहीं कर रहे हैं।

आमतौर पर शासन प्रशासन के लिए यह समस्या कोई नई नहीं है जब किसी अधिकारी या कर्मचारी के गैर जनपद में ट्रांसफर हो जाने के बावजूद वह अपने सरकारी आवासीय बंगले को खाली नहीं करते हैं, लेकिन ऐसा कम ही देखने को मिला है जब सरकारी आवास खाली न करने पर प्रशासन कड़ा रुख अख्तियार करते हुए बकायदे उस जगह को जबरन खाली कराने पर आमादा हो जाता हो। लेकिन वाराणसी में कुछ ऐसा ही तब देखने को मिला जब शहर के कैंटोंमेंट इलाके में स्थित मुख्य राजस्व अधिकारी के पद पर तैनात रह चुके अनिल कुमार त्रिपाठी के सरकारी बंगले को खाली कराने के लिए बकायदे मुनादी कराई गई। इसमें वरिष्ठ अधिकारियों ने सरकारी आवास को खाली कराने से संबंधित उस नोटिस को भी पढ़कर सुनाया जिसमें आवास खाली ना करने की स्थिति में बलपूर्वक शनिवार को खाली कराने की भी बात कही गई।

दरअसल लगभग 5 महीनों से भी ज्यादा वक्त पहले मुख्य राजस्व अधिकारी के पद पर वाराणसी में तैनात रह चुके अनिल कुमार त्रिपाठी का ट्रांसफर वाराणसी से सटे जनपद चंदौली में एडीएम न्यायिक के पद पर हो चुका है, लेकिन वह सरकारी आवास को खाली करने को तैयार नहीं है। इसी को लेकर कानूनी प्रक्रिया अपनाते हुए वाराणसी प्रशासन सरकारी आवास खाली कराने पर आमादा हो गया है।